हिंग्स बोसॉन या गॉड पार्टिकल किसे कहते हैं ?





हिंग्स बोसॉन या गॉड पार्टिकल किसे कहते हैं ?

जैसा की हम जानते की हमारा ब्रह्माण्ड बहुत ही विस्तृत है। ब्रह्माण्ड के रहस्यों को जानने के लिए सन 2010 एक प्रयोग किया गया। यह प्रयोग यूरोपियन सेंटर फॉर न्यूक्लियर रिसर्च (CERN) द्वारा किया गया। इस प्रयोग को पृथ्वी के अंदर लगभग 100 फीट नीचे की ओर 27 किलो मीटर लंबी सुरंग में किया गया।
इस प्रयोग का नाम LHC अर्थात लार्ज हैड्रन कोलाइडर था। इस महाप्रयोग में हजारों वैज्ञानिकों ने भाग लिया।

इसका प्रयोग का उद्देश्य अरबों वर्ष पूर्व घटित ब्रह्माण्डीय घटना  को प्रयोगशाला में करना था । यह वही घटना है जिसे हम बिग बैंग के नाम से जानते हैं। इसमें प्रोटोन बीमों को प्रकाश की गति से टकराया गया और इस गॉ पार्टिकल के निर्माण का प्रयास किया गया। वैज्ञानिको द्वारा माना जाता है की ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति के रहस्य इसमें ही छिपे हैं, क्योंकि यह एक बेसिक यूनिट माना जाता है।

मान्यता के अनुसार ब्रह्माणड का द्रव्यमान इसी पदार्थ 90 से 95 प्रतिशत इसी अदृश्य पदार्थ से है। इसे हम भौतिक विज्ञान में डार्क मैटर(Dark Matter) के नाम से पढते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

किस खेल में कितने खिलाड़ी?

संख्याओं में अल्प विराम (कोमा) कहाँ लगाएँ ?

भारतीयों के लिए हज यात्रा कोटे में इजाफा

NCERT की पुस्तकें

70 महत्वपूर्ण वैज्ञानिक उपकरणों के नाम और काम।