देश के पहले लोकपाल कौन हैं?


देश के पहले लोकपाल कौन है ?
यह प्रश्न अब परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण हो गया है। सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व जस्टिस पिनाकी चन्द्र घोष ने 23 मार्च 2019 को देश के पहले लोकपाल के रूप में शपथ ली है, देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने ये शपथ दिलाई। पिनाकी चन्द्र घोष पहले आन्ध्र प्रदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस व सुप्रीम कोर्ट के जज रह चुके हैं और राष्ट्रीय मानवाधिकार के सदस्य भी रह चुके हैं। ये मई 2017 में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीस के पद से सेवानिवृत्त हुए थे।

लोकपाल के तौर पर नियुक्ति के लिए व्यक्ति को सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीस या पूर्व सुप्रीम कोर्ट जस्टिस होना चाहिए या गैर न्यायिक नियुक्ति के मामले में 25 वर्ष भ्रष्टाचार रोधी, प्रशासन सतर्कता या कानून  एंव प्रबंधन संबंधित क्षेत्र में अनुभव होना आवश्यक है, यह पात्रता लोकपाल अधिनियम 2013 के अनुसार निर्धारित की गई है, व्यक्ति को किसी लाभ के पद पर नही होना चाहिए। इस पद का कार्यकाल 5 वर्ष य 70 वर्ष तक होगा व वेतन भारत के मुख्य न्यायाधीस के समान होगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

किस खेल में कितने खिलाड़ी?

संख्याओं में अल्प विराम (कोमा) कहाँ लगाएँ ?

भारतीयों के लिए हज यात्रा कोटे में इजाफा

NCERT की पुस्तकें

70 महत्वपूर्ण वैज्ञानिक उपकरणों के नाम और काम।