आकाशगंगा (Galaxy) किसे कहते हैं



आकाशगंगा (Galaxy) किसे कहते हैं

ब्रह्मांड में आकाशगंगा तारों का एक विशाल समूह होता है। हमारे ब्रह्मांड में लगभग सौ अरब आकाशगंगाएँ है। प्रत्येक आकाशगंगा में लगभग सौ अरब ही तारे हो सकते हैं, यह एक अनुमान है। तारों के अतिरिक्त इनमें धूल व गैसें होती है, एक आकाशगंगा में २% धूल कण व अन्य गैसें होती हैं। प्रायद्वीप ब्रह्मांड आकाशगंगा को ही कहते हैं। हमारी पृथ्वी एरावत पथ की आकाशगंगा है, इस हम दुग्धमेखला या मिल्की वे के नाम से भी जानते हैं।
आकाशगंगा तीन प्रकार की मानी गईं है।
१. सर्पिल / इसमें तारों का समूह सर्पिले आकार में होता है।
२. दीर्घवृत / इसमें तारों का समूह अंडाकार आकार में होता है।
३. अनियमित / इनमें तारों के समुह का आकार निश्चित नही होता।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

किस खेल में कितने खिलाड़ी?

संख्याओं में अल्प विराम (कोमा) कहाँ लगाएँ ?

भारतीयों के लिए हज यात्रा कोटे में इजाफा

NCERT की पुस्तकें

70 महत्वपूर्ण वैज्ञानिक उपकरणों के नाम और काम।