योग दिवस की शुरुआत कैसे हुई

योग दिवस की शुरुआत कैसे हुई

योग एक आध्यात्मिक प्रकिया है जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने (योग) का कार्य होता है। विश्वभर में 21 जून को 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' मनाया गया है। योग भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा रहा है। योग एक प्राचीन कला है जिसकी उत्पत्ति भारत में करीब 5000 साल पहले हुई थी. पहले समय में, लोग अपने दैनिक जीवन में योग ध्यान, स्वास्थय के लिए करते थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत हुई। प्रधानमंत्री ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में एकसाथ योग करने की बात कही थी। इसके बाद महासभा ने 11 दिसंबर 2014 को इस प्रस्ताव को स्वीकार किया और तभी से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस अस्तित्व में आया।


दरअसल उत्तरी गोलार्द्ध में 21 जून सबसे लंबा दिन होता है। भारतीय मान्यता के अनुसार आदि भगवान शंकर ने इसी दिन मनुष्य जाति को योग विज्ञान की शिक्षा दी थी। इसीलिए 21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में चुना गया है.

पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया था। भारत ने पहले योग दिवस पर दो शानदार रिकॉर्ड भी बनाए थे। पहला रिकॉर्ड 35,985 लोगों के साथ योग करना और दूसरा रिकॉर्ड 84 देशों के लोगों द्वारा इस समारोह में हिस्सा लेना था।

बाबा रामदेव ने साल 2018 में कोटा में 2.5 लाख लोगों के साथ योग कर विश्व रिकॉर्ड बनया था. दिल्‍ली स्थि‍त अमेरिका के दूतावास में भी योग दिवस के प्रति क्रेज देखने को मिला। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने साल 2018 में 18,000 फीट की ऊंचाई पर लद्दाख के ठंडे रेगिस्तान में सूर्य नमस्कार किया और विश्व रिकॉर्ड बनाया था।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

किस खेल में कितने खिलाड़ी?

संख्याओं में अल्प विराम (कोमा) कहाँ लगाएँ ?

NCERT की पुस्तकें

भारतीयों के लिए हज यात्रा कोटे में इजाफा

संवैधानिक और गैर-संवैधानिक में अंतर