सैकरीन एक कृत्रिम मधुरक, Saccharin a artificial sweetening agent

क्या है सैकरीन ?
कृत्रिम मधुरक जिसे हम अंग्रेजी भाषा में Artificial Sweetening Agents कहते हैं.
प्राकृतिक मधुरक जैसे - सुक्रोज जो कि मानव शरीर में कैलोरी को बढता है इसलिए बहुत से लोग कृत्रिम मधुरक का प्रयोग करना पसंद करते हैं. ऑथोसल्फो बेंजमाइड, जिसे सैकरीन भी कहते हैं. प्रथम कृत्रिम मधुरक है. इसकी खोज 1879 में हुई थी, यह सुक्रोज से 550 गुना अधिक मीठी होती है और यह साधारण रूप से मूत्र में उत्सर्जित हो जाती है, यह सेवन के पश्चात किसी भी प्रकार का नुकसान नही पहुंचाती ना यह किसी प्रकार की हानिकारक रसायनिक अभिक्रिया करती है. इसका उपयोग मधुमेह के रोगियों के लिए किया जा सकता है.

सेकरीन के साथ साथ कुछ अन्य कृत्रिम मधुरक है - ऐस्पार्टेम, सैकरीन, सूक्रालोस एंव एलिटेम.

ऐस्पार्टेम सुक्रोज से लगभग 100 गुना मीठा होता है परंतु इसका उपयोग केवल ठंडें खाद्य पदार्थों मे किया जाता है, क्योकी अधिक ताप पर यह अस्थायी हो जाता है. एलिटेम इससे अधिक स्थायी है पर सुक्रोज से केवल 100 गुना मीठा होता है हालांकि  एलिमेट का प्रयोग करते समय इसकी मीठास को काबू करना बहुत कठिन है

सूक्रालोस सुक्रोज का ट्राइक्लोरो व्युत्पन्न है यह देखने में सुक्रोज के समान होता है और स्वाद में भी सुक्रोज के समान है यह खाना पकाने के ताप पर स्थायी रहता है यह भी कैलोरी उत्पन्न नही करता.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

किस खेल में कितने खिलाड़ी?

संख्याओं में अल्प विराम (कोमा) कहाँ लगाएँ ?

भारतीयों के लिए हज यात्रा कोटे में इजाफा

NCERT की पुस्तकें

70 महत्वपूर्ण वैज्ञानिक उपकरणों के नाम और काम।