मार्क्सवाद साधाराण शब्दों में

कार्लमार्क्स की साम्यवादी विचारधारा ही मार्क्सवादी विचारधारा कहलायी।ये एक वैज्ञानिक समाजवादी विचारक थे।ये यथार्थ पर आधारित समाजवादी विचारक के रूप में जाने जाते हैं।सामाजिक राजनीतिक दर्शन में मार्क्सवाद (Marxism) उत्पादन के साधनों पर सामाजिक स्वामित्व द्वारा वर्गविहीन समाज की स्थापना के संकल्प की साम्यवादी विचारधारा है] मूलतः मार्क्सवाद उन आर्थिक राजनीतिक और आर्थिक सिद्धांतो का समुच्चय है जिन्हें उन्नीसवीं-बीसवीं सदी में कार्ल मार्क्स, फ्रेडरिक एंगेल्स और व्लादिमीर लेनिन तथा साथी विचारकों ने समाजवाद के वैज्ञानिक आधार की पुष्टि के लिए प्रस्तुत किया।

मार्क्सवाद के अनुसार सामाजिक संरचना की आर्थिक व्याख्या करने वाला यह प्रमुख सिद्धांत है। यह सिद्धांत उन्नीसवीं शताब्दी के बाद लागू होता है। उससे पहले इस विचारधारा के होने या पाए जाने के कोई प्रमाण नहीं मिलते हैं। आर्थिक रुप से शोषण करने वालों (शोषक)के खिलाफ़ आवाज उठाने में मार्क्सवाद का बहुत बड़ा योगदान रहा है।
मार्क्स के प्रेरणा स्रोत
हीगल,फ्रांसीसी समाजवाद,सेंट साइमन,ब्रिटिश समाजवादी-एडम स्मिथ।




source-wikipedia 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

किस खेल में कितने खिलाड़ी?

संख्याओं में अल्प विराम (कोमा) कहाँ लगाएँ ?

भारतीयों के लिए हज यात्रा कोटे में इजाफा

70 महत्वपूर्ण वैज्ञानिक उपकरणों के नाम और काम।

संवैधानिक और गैर-संवैधानिक में अंतर